संदेश कैसे बनते है

Sandesh बंगाल की एक बहुत ही पोपुलर मिठाई हैं| यह ताजा छेना से बनाया जाता है| इस मिठाई का नाम संदेश क्यों हुआ इसको लेकर एक पुरानी कहानी है| चलिए सुनाते हैं आपको यह कहानी|

संदेश की कहानी

पुराने जमाने में जब डाकघर, डाकिया या कुरिअर सर्विस नहीं हुआ करते थे| किसी को कोई संदेश (massage) भेजना होता था तो संदेश (massage) दूत के हाथों भेजा जाता था| यह भी रिवाज था की संदेश (massage)  के साथ मिठाई भी भेजा जाए| उस समय बंगाल में मिठाई के नाम पर सिर्फ रसगुल्ला ही हुआ करता था| परंतु रसगुल्ला कहीं लेकर जाना बहुत ही मुश्किल होता था| इसीलिए एक बार जब संदेश (massage) के साथ भेजने  के लिए कोई मिठाई लेने आया तो हलवाई ने छेने का एक सुखा मिठाई बना कर दूत को दे दिया| दूत को सुखी मिठाई लेजाना काफी आसान हो गया| उसके बाद जब भी किसी को संदेश (massage)  के साथ कोई मिठाई भेजना होता तो वह हलवाई के पास जाकर बोलते थे की “ मुझे संदेश के साथ ले जाने वाली मिठाई दीजिए”, और फिर धीरे धीरे लोगों ने उस मिठाई को ही संदेश बोलना शुरू कर दिया |  

कुछ मजेदार जानकारियां

अभी संदेश दुकानों में अलग-अलग वैरायटी के और अलग-अलग फ्लेवर के साथ पाए जाते है |  इसमें से एक तरीके का संदेश बनाने कि पूरी विधि स्टेप बाय स्टेप दे रही हूं तस्वीर के साथ | इसे बनाने के लिए आपको 10 से 15 मिनट का समय लगेगा|

संदेश का सामग्री

1 लीटर दूध

दो नींबू का रस

6 से 7 चम्मच चीनी

आधा चम्मच मैदा

कटे हुए ड्राई फ्रूट्स अपने स्वाद के हिसाब से 

संदेश बनाने की विधि

सबसे पहले छेना तैयार करना है|  छेना बनाने के लिए हम दूध को उबाल लेंगे |  नींबू के रस में जितना रस उतना पानी मिला देंगे और गर्म दूध के ऊपर धीरे धीरे डालते हुए  चम्मच से मिलाते रहेंगे| तुरंत ही दूध फटकर छेना बन जाएगा| अगर छेना तैयार हो जाए और थोड़ा नींबू का रस बच  जाए तो उसे इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है| 

छेना को ठंडा होने दीजिए|  जब यह ठंडा हो जाए तो एक सूती कपडे़ के मदद से इसको छान लीजिए और हाथों  से दबाकर जितना हो सके इसका पानी निकाल दीजिए|

पानी निकाला हुआ छेना एक बर्तन में ले लीजिए और हाथों से  मसल कर इसे नरम कर लीजिए| अब इसमें मैदा और चीनी मिला दीजिए| हाथों के मदद से इन सब को अच्छे से मिला लीजिए |

अब बारी है इसे पकाने की|  एक कढ़ाई में पूरा मिश्रण डाल दीजिए और पहले 1 मिनट तक मीडियम आँच पर इसे पकाइए फिर आँच धीमा करके  और 3 मिनट तक लगातार चलाते हुए पकाइए| इसमें किसी तरह के तेल या घी की जरूरत नहीं है| इसमें हम किसी तरह का फ्लेवर भी इस्तेमाल नहीं करेंगे|  छेना बनाते वक्त जो नींबू हमने इस्तेमाल किया है उसी का फ्लेवर इसमें रह जाएगा|

अब पूरा मिश्रण बर्तन में निकाल लीजिए और थोड़ा सा ठंडा होने दीजिए|  जब मिश्रण हाथ में लेने लायक ठंडा हो जाए तो उसको मसल कर एक बार और अच्छे से मिला लीजिए| अगर आप इसमें ड्राई फ्रूट्स मिलाना चाहते हैं तो उसे भी इस समय डालकर मिला दीजिए| हाथों में थोड़ा सा घी लगाकर संदेश के मिश्रण को दबाते हुए लड्डू जैसा आकार दीजिए| सजाने के लिए ऊपर से थोड़ा और कटे हुए ड्राई फ्रूट  डाल दीजिए| तैयार हो गया एकदम पारंपरिक तरीके से बना हुआ संदेश |

इसे भी जरुर पड़े

सत्तू के लड्डू

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top